भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम करते हुए लोग / रवीन्द्र दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितने हास्यास्पद होते हैं प्रेम करते लोग
कितने दयनीय !
हाँफ़ते हुए, भिनभिनाते हुए भी
रहते हैं इस अभिमान में चूर
कि पा लिया जोड़ीदार को
तो जीत लेंगे संसार को ।

सारे संसार से मुँह छुपाए,
अपने आप से नज़रें चुराए
न जाने किस मुर्दनी के आगोश में बिलबिलाते रहते हैं
प्रेम करते हुए लोग।

आपको अगर प्रेम भी हो इंसानों से
तो हो जाएगी अनास्था
'गर देख लें सर-ऐ-आम इन
प्रेम करते हुए लोगों को ।

कीचड़ भरा बरसाती रास्ता
और आप चलने को मजबूर
तब जो हालत होगी आपकी
कुछ वैसी ही
जब गुज़रना पड़े
जहाँ गुंथे पड़े हों -
प्रेम करते हुए लोग।

कोई सहमत हो, या न हो
फिर भी यह आम लोगों पर अत्याचार है
कि सार्वजानिक स्थानों पर
भिनभिनाते रहते हैं -
प्रेम करते हुए लोग ।

मन को किया उदार
दिल को दरिया, फिर देखा तो पाया
कितने मज़बूर होते हैं-
प्रेम करते हुए लोग।