भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम भले जीवन के मंजिल / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम भले जीवन के मंजिल
प्रेम निभैवोॅ लेकिन मुश्किल।

वही प्रेम के स्वाद बुझलकै
जीवन भर जे जललै तिल-तिल।

जौनें रुकवोॅ जानलकै नै
ओकरै होतै सब कुछ हासिल।

जे अपनोॅ साँसो सें फक-फक
हेनो नै कमजोर रखोॅ दिल।

जों चाहे छौ मान-प्रतिष्ठा
बात करोॅ नै कुछुवो फाजिल।

जे सब्भे के हित चाहै छै
सारस्वतो छै वैमेॅ शामिल।