भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम में / निज़ार क़ब्बानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब मैं प्रेम में होता हूँ
तो मुझे लगता है
जैसे मैं वक़्त का सरताज हूँ
धरती और इस पर मौजूद हर चीज़
मेरे अधिकार में है
और अपने घोड़े पर सवार मैं
जा सकता हूँ सूरज तक

जब मैं प्रेम में होता हूँ तो
हो जाता हूँ आँखों के लिए अदृश्य
किसी तरल रौशनी-सा
और मेरी डायरी में दर्ज कविताएँ
तब्दील हो जाती हैं
पीले और लाल फूल से भरे खेतों में

जब मैं प्रेम में होता हूँ तो
मेरी उँगलियों से फूट पड़ती है
जल की धार
और जीभ पर उग आती है हरी घास
जब मैं प्रेम में होता हूँ तो
मैं हो जाता हूँ समस्त समय से बाहर
एक समय

जब मैं किसी
स्ट्रे के प्रेम में होता हूँ
तो सारे पेड़
दौड़ पड़ते हैं मेरी ओर
नंगे पाँव..

अँग्रेज़ी से अनुवाद : भावना मिश्र