भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


खंजर? आग?
धीरे से।
इतनी ज़ोर से बोलने की क्या ज़रूरत!

चिर-परिचित यह दर्द
जैसे आँखों के लिए हथेली,
जैसे होंठों के लिए
अपने बच्चे का नाम।

रचनाकाल : 1 दिसम्बर 1924

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह