भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिलेंगे हम दोनों फिर से
समुद्र में
तू पानी की तरह
मैं कमल के फूल की तरह

तू मुझे ले जाएगा
करूँगी मैं तेरा रसपान
एक ही हैं हम
सबकी आँखों के सामने I

यहाँ तक कि तारे भी
हैं आश्चर्यचकित
बदल लिए हैं यहाँ
रूप दोनों ने
सपनों में तेरे
जो तूने चुने हैं II

मूल जर्मन भाषा से प्रतिभा उपाध्याय द्वारा अनूदित