भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

फर्ज अदायगी / कृष्ण कुमार यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


एयर कंडीशनर कमरों में बैठ
रचते हैं वे देश का भविष्य
लाल-नीली बत्तियों और
हूटरों के साथ चिंघाड़ती
मँहगी गाडि़याँ
कराती हैं उनकी
विशिष्टता का एहसास।

आम जनता के दुख-दर्द से दूर
जीने हैं वे एक रूटीनी लाइफ
लम्बी-लम्बी टिप्पणियों
और लच्छेदार बातों के बीच
फ़र्ज अदा करते हैं
अपने अधिकारी होने का।

करते हैं फैसले वे
उनकी तकदीरों का
जिनसे कभी वे
रूबरू ही न हुए।