भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ़ासला / देवी प्रसाद मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

या तो पानी बरसने वाला है या फिर अत्याचार होने वाला है
या तो तारीख़ बदलने वाली है या फिर युग
या तो घर की दीवार पर एक नया रंग होगा
या फिर पूरे शहर की दीवारें सफ़ेद हो जाएँगी

दो सम्भावनाओं के बीच यह फ़ासला हमेशा इतना ही
कम
था