भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

फ़ासलों के बीच प्रेम / प्रतिभा कटियार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न आवाज़ कोई, न इंतज़ार
वैसे, इतना बुरा भी नहीं
फ़ासलों के बीच
प्रेम को उगने देना
अनकहे को सुनना,
अनदिखे को देखना
फ़ासलों के बीच भटकना

आवाज़ों के मोल चुकाने की ताक़त
अब नहीं है मुझमें
न शब्दों के जंगल में भटकने की ।
न ताक़त है दूर जाने की
न पास आने की ।
बस एक आदत है
साँस लेने की और
तीन अक्षरों की त्रिवेणी
में रच-बस जाने की ।

तुम्हारे नाम के वे तीन अक्षर...