भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ़िनिक्स / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे एक फ़िनिक्स होना चाहिए
अपनी कल्पना के
शिखरों का

मुझे देखना चाहिए अपने क्षितिज के शिखर
और उन्हें अपना परिचय देना चाहिए

मैंने कभी नहीं चाहा
कि कुछ भी छिपा रहे
मुझसे दूर

इसीलिए मैं यहाँ आई हूँ
कि देख सकूँ
अगला - पिछला
स्वप्न और यथार्थ के
दोनों को ।