भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ़िराक़ से भी गए हम विसाल से भी गए / 'अज़ीज़' हामिद मदनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फ़िराक़ से भी गए हम विसाल से भी गए
सुबुक हुए हैं तो ऐश-ए-मलाल से भी गए

जो बुत-कदे में थे वो साहिबान-ए-कश्फ़-ओ-कमाल
हरम में आए तो कश्फ़ ओ कमाल से भी गए

उसी निगाह की नरमी से डगमगाए क़दम
उसी निगाह के तेवर सँभाल से भी गए

ग़म-ए-हयात ओ ग़म-ए-दोस्त की कशाकश में
हम ऐसे लोग तो रंज ओ मलाल से भी गए

गुल ओ समर का तो रोना अलग रहा लेकिन
ये ग़म के फ़र्क़-ए-हराम-ओ-हलाल से भी गए

वो लोग जिन से तेरी बज़्म में थे हँगामे
गए तो क्या तेरी बज़्म-ए-ख़याल से भी गए

हम ऐसे कौन थे लेकिन क़फ़स की ये दुनिया
के पर-शिकस्तों में अपनी मिसाल से भी गए

चराग़-ए-बज़्म अभी जान-ए-अंजुमन न बुझा
के ये बुझा तो तेरे ख़द्दों-ख़ाल से भी गए