भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

फागुनी मस्ती / निशान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे आधुनिक कस्बे में
चंग पर
गीत गाए सिर्फ
परदेशी पल्लेदारों ने
फुटपाथिये दुकानदारों ने
ईन्ट भट्ठे के मजदूरों ने
रेलवे के बारहमासियों ने
नालियाँ साफ करने वाले लड़कों ने
कच्ची बस्ती की औरतों ने