भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फागुन का रथ / माहेश्वर तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसे पल-छिन
मन से कितना
बोझ अकथ
गुज़रा है

काँप रहे
खिड़की के पर्दे
मेज़ों पर गुलदस्ते
उड़ती हुई
गंध में
खोये
भौंचक हैं चौरस्ते

कहीं पास से
नया-नया फागुन का
रथ गुज़रा है

कानाफूसी, चर्चा
अफ़वाहों वाला
यह मौसम
टेसू की डालों में
बाँध रहा
गीतों का परचम

कितने राख हुए
मोड़ों से
होकर पथ गुज़रा है