भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर एक दाग़ चराग़-ए-सफ़र बनाते हुए / जलील आली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर एक दाग़ चराग़-ए-सफ़र बनाते हुए
निकल पड़े हैं नई रह-गुज़र बनाते हुए

वो जस्त भर के हवा हो गया मगर न खुला
मैं किस नवाह में था उस के पर बनाते हुए

निकल सकी न कोई और सूरत-ए-तस्वीर
बहाए अश्क बहुत चश्म-ए-तर बनाते हुए

वो क़हर बरहमी-ए-बख़्त है कि डरते हैं
गिरा न लें कहीं दीवार दर बनाते हुए

क़दम क़दम पे सज़ा दे रहा है वक़्त हमें
हमारे ऐब अदू के हुनर बनाते हुए

तू ज़िंदगी को जियें क्यूँ न ज़िंदगी की तरह
कहीं पे फूल कहीं पर शरर बनाते हुए