भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर शब-ए-ग़म ने मुझे शक्ल दिखाई क्योंकर / दाग़ देहलवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


फिर शब-ए-ग़म ने मुझे शक्ल दिखाई क्योंकर
ये बला घर से निकाली हुई आई क्योंकर

तू ने की ग़ैर से मेरी बुराई क्योंकर
गर् न थी दिल में तो लब पर तेरे आई क्योंकर

तुम दिलाज़ार-ओ-सितमगर नहीं मैं ने माना
मान जायेगी इसे सारी ख़ुदाई क्योंकर

आईना देख के वो कहने लगे आप ही आप
ऐसे अच्छों की करे कोई बुराई क्योंकर

कसरत-ए-रंज-ओ-अलम सुन के ये इल्ज़ाम मिला
इतने से दिल में है इतनों की समाई क्योंकर

दाग़ कल तक तो दुआ आप की मक़बूल न थी
आज मूँह माँगी मुराद आप ने पाई क्योंकर