भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर
जब नए सिरे से
शुरू हुई समय की गिनती
शब्दों के हिमनद पिघल गए
साँस लेने में आसानी हुई

बहुत पुरानी भाषा है यह
जो फिर से किशोर रूप धरकर
आई है हमारे पास

फिर होश में आई है
घायल थी जो
हमारी जर्मन भाषा

रूसी भाषा से अनिल जनविजय द्वारा अनूदित