भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिसलन / अदनान कफ़ील दरवेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यहाँ
बहुत फिसलन है, साथी !
चलो, कहीं दूर चलते हैं ।

अपनी चमकीली चप्पलें उतार
धरती के किसी अपरिचित छोर पर

जहाँ धरती हमारे क़दमों के लिए
अपनी हथेली
ख़ुद-ब-ख़ुद आगे बढ़ाती हो ....।

(रचनाकाल: 2015, दिल्ली)