भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल, पंछी और आदमी / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


इतना चल चुका हूँ इस पृथ्वी पर

फिर भी कितने कम फूलों को

जानता हूँ उनके नाम से

कितने कम को पहचानता हूँ उनकी महक से ।


कितने कम पंछियों को पहचानता हूँ उनकी आवाज़ से

उनके पंखों से निकली धुन से ।


सोते हुए गुज़रता हूँ पुलों के ऊपर से

नीचे से बह रही थी जो नदी पता नहीं

क्या था उसका नाम

बरसों छहाँता रहा जिस पेड़ के नीचे

नहीं पता चला उसका नाम-गोत्र अब तक ।


कौन आदमी था वह

जिसने जगाया और कहा--

उठिए, आपका स्टेशन आ गया है

हड़बड़ी में पूछ नहीं पाया उसका नाम

देख नहीं पाया उसका चेहरा भी

ठीक से ।