भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल गाछ / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह आएगी,
आएगी ही आज वह
यही बात कह रहा है गन्धराज
यही बात खिली हुई है स्थल पद्म गाछ में

ढलती हुई धूप से
आँखें हटाते ही
देखता हूँ,
यह क्या ! धूप तो नहीं है

स्वयं ही फूलगाछ होकर
बरामदे के पास
हंसते हुए वह खड़ी हुई है !

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी