भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल -पाँखुरी / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूने पथ में
मिली अमूल्य मणि,
फूल -पाँखुरी
जीवन -तरंग की
सुगन्ध -भरी
भाव -अनुरंजिनी
कष्ट -सिंधु में
लाख गोते लगाती
मृदुहासिनी
कहाँ से मिला तुम्हें?
अटल धैर्य
आँसू पीकर खारे
यूँ मुस्कुराना
रचना प्रेम- काव्य,
शैल नदी -सा
पत्थरों से टकरा
चोटिल होना
फिर भी मुस्कुराना।
सूनी थी बाट
छाया घना अँधेरा
तुमने थामा
मेरा काँपता हाथ
ओढ़े तुमने
सदैव मेरे दुःख
मेरी व्यथाएँ
भूलकर अपने
जीवन- सुख।
बस इतना चाहूँ-
निशिवासर
किसी भी लोक जाऊँ
हर जन्म में
मैं तुमको ही पाऊँ
सदा कंठ लगाऊँ।
-0-