भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फेहरिस्त / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे दुश्मनों की फेहरिस्त
बहुत लम्बी हैं
लम्बी इतनी कि
उड़ जाये नींद रातों की
जबकि चाहता हूँ मैं सोना
लम्बी तान कर
कबीर की तरह
जिसके दुश्मनों की फेहरिस्त
और भी लम्बी हैं