भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फैली मुस्कान-हाइकु / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

21
फैली मुस्कान
शिशु की दूधिया या
हुआ विहान ।
22
सर्दी की धूप
उतरी आँगन में
ले शिशु -रूप
23
खिलखिलाई
पहाड़ी नदी-जैसी
मेरी मुनिया ।
24
खुशबू- भरी
हर पगडण्डी -सी
नन्हीं दुनिया ।
25
तुतली बोली
आरती में किसी ने
मिसरी घोली ।
26
इस धरा का
सर्वोच्च सिंहासन
है बचपन
27
मन्दिर में न
राम बसा है ,बसा
भोले मन में
-0-
28
साँसों की डोर
जन्म और मरण
इसके छोर ।
29
अँजुरी भर
आशीष तुम्हें दे दूँ
आज के दिन ।
30
फैली चाँदनी
धरा से नभ तक
जैसे चादर ।