भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

बंतळ खातर नूंतो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बंद खिड़कियां अर
बंद दरवाजां आळै कमरै में बंद
कांई करै तूं
बारै देख
खुली हवा है
तावड़ो है
सुगंध है
लै आव
आपां करां-
गटरगूं-गटरगूं ।