भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदरिया और बाईसिकिल / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाइसिकिल पर बंदरिया थी
बंदर जी के पीछे,
उनको ही पकड़े बैठी थी
डर से आँखें मीचे।
गड्ढे पर जब बड़े ज़ोर से
बाइसिकिल थी उछली,
बोली-‘जल्दी रोको इसको,
आती मुझको मितली’।
       [लोटपोट (साप्ताहिक), सं॰ 244]