भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदिनी / जोगी जबसे तू आया मेरे दवारे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: ??                 

जोगी जबसे तू आया मेरे दवारे
मेरे रँग गए सांझ सखारे
तू तो अँखियों में जाने जी की बतियाँ
तौसे मिलना ही ज़ुल्म भया रे
ओ जोगी जबसे ...

देखी साँवली सूरत ये नैना जुड़ाए
तेरी छबी देखी जबसे रे नैना जुड़ाए
भए बिन कजरा ये कजरारे
ओ जोगी जबसे ...

जाके पनघट पे बैठूँ मैं, राधा दीवानी
बिन जल लिए चली आयूँ, राधा दीवानी
मोहे अजब ये रोग लगा रे
ओ जोगी जबसे तू ...

मीठी मीठी अगन ये, सह न सकूँगी
मैं तो छुई-मुई अबला रे, सह न सकूँगी
मेरे और निकट मत आ रे
ओ जोगी जबसे तू ...