भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदिनी / मोरा गोरा अंग लइ ले

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: ??                 

मोरा गोरा अंग लइ ले, मोहे शाम रंग दइ दे
छुप जाऊँगी रात ही में, मोहे पी का संग दइ दे

एक लाज रोके पैयाँ , एक मोह खींचे बैयाँ
जाऊँ किधर न जानूँ, हम का कोई बताई दे

बदरी हटा के चंदा, चुपके से झाँके चंदा
तोहे राहू लागे बैरी, मुस्काये जी जलाइ के

कुछ खो दिया है पाइ के, कुछ पा लिया गवाइ के
कहाँ ले चला है मनवा, मोहे बाँवरी बनाइ के