भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदी / सूर्यदेव सिबोरत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छूटकर
आ गया हूं मैं
मगर
छूट नहीं रही हैं
जेल की दीवारें
तुम्हारे इन्तज़ार की ।

क्योंकि
चप्पे चप्पे पर उनके
लिख दिया है
तुम्हारा नाम मैंने
खून-ए-जिगर से ।
मगर
मेरे
इन्तज़ार करने से पहले
बहुत पहले
तुम तो
हो चुकी
गैर की ।