भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

बगत / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐकर तो
थारी मौत रा समंचार
लाग्या घणा ई दोरा
पण होळै-होळै
सो कीं बिसराइजग्यो
ज्यूं-ज्यूं चढियां गया
बगत रा धोरा !