भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बचपन / निलिम कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चींटियों से बाँबी और उसके क़रीब
बाँसों के कुटुम्ब
बड़ी उम्र के नर, मोहक मादा
और, उनकी झालरें थामते हुए शिशु
हम उनके क़रीब खेला करते, उनकी टहनियों और पत्तों के करीब,

उनकी छायाओं के पास
उनके संग हमें खेलते देख बड़ी उम्र के नर गुर्राने लगते.
मेरी छोटी बहन बाँबी पर बैठी थी,
अपनी छाती पर नन्हें स्तनों के चिह्न लिए ।