भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बचाव की कला / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भेड़िया गुर्राता है
आदमी की शक्ल में
और तुम
मेमने की तरह मिमियाते हो ;
तुम्हारा यही भय
तुम्हें भेड़िये का भोजन बनाता है
अगर तुम
भोजन बनना नहीं चाहते
तो तुम्हें
गुर्राने की कला सीखनी होगी,
गुर्राने की ही नहीं
झपटने की भी।