भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बची हुई पृथ्वी / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बची हुई पृथ्वी
Bachihuiprithwi1.jpg
रचनाकार लीलाधर जगूड़ी
प्रकाशक राजकमल प्रकाशन
वर्ष वर्तमान संस्करण, 2003
भाषा हिन्दी
विषय कविताएँ
विधा छंद मुक्त कविताएँ
पृष्ठ 120
ISBN 8171784097
विविध
इस पन्ने पर दी गई रचनाओं को विश्व भर के स्वयंसेवी योगदानकर्ताओं ने भिन्न-भिन्न स्रोतों का प्रयोग कर कविता कोश में संकलित किया है। ऊपर दी गई प्रकाशक संबंधी जानकारी छपी हुई पुस्तक खरीदने हेतु आपकी सहायता के लिये दी गई है।