भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बचो / प्रभात त्रिपाठी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विषधर चौक के
इस विकराल विस्तार को समझो
और बचो इस शहर से

यहाँ सारी सड़कें, अपने समूचे कोहराम
और चमचमाते ताम-झाम के साथ
दनदनाती घुस रही हैं तुम्हारे घरों में

तुम्हारे एकांत की चिंदियाँ बिखेरतीं
इन सड़कों की असलियत
सिर्फ़ ताक़त है

सिर्फ़ ताक़तवरों को एक दूसरे के निकट लातीं
इन सड़कों पर चलकर
कोई कभी नहीं पहुँचता अपने घर

अगर अपने घर जाना है
तो इन सड़कों से बचो