भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बच्चा और उसका सोने का कमरा / एलिसेओ दिएगो

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम आज रात डरे हुए हो :
चोर बाहर हैं
पत्तियों में छिपे
खिड़की में झाँकते ।
           शीशे से सोना फैलता है
परछाईं में ।
           और चोर
पत्तियों में हैं,
एक भीड़, एक अनन्तता,
दूसरी ओर के
नम निभृत स्थान में ।