भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बच्चा / काएसिन कुलिएव / सुधीर सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी मनःस्थिति गूँजती है मेरी पँक्तियों में
मैं आज हैरान हूँ और मेरा दिल छलनी
लेकिन ज़िन्दगी हसीन है उस बच्चे के लिए
जो एक छड़ी पर घुड़सवारी कर रहा है

ये चला वो सड़क पर सरपट
ख़ुशी से खिलखिलाता बेपरवाह
मानो न कभी था ऐसा सरपट घोड़ा
और न था ऐसा सवार

पाँवों पर नहीं, घोड़े की पीठ पर सवार
बच्चा उड़ता है हवा की मानिन्द
और एक पतली छड़ी से वह
चाबुक फटकारता है अपने दाएँ, अपने बाएँ

जीतेगा उसका घोड़ा सारी दौड़ें
अव्वल रहेगा वह सदैव
प्रसिद्ध सेनानायकों के नामी-गिरामी घोड़े भी
करेंगे ईर्ष्या उसके अथक उत्साह से ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना