भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बजा हो गया हां बजा हो गया / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बजा हो गया हां बजा हो गया
महब्बत में जो हो गया हो गया

असर नालाए-दर्द का हो गया
वो बे-दर्द, दर्द-आश्ना हो गया

अगर जान जाती रही ग़म नहीं
महब्बत का हक़ तो अदा हो गया

वहां रश्क़े-गुलज़ार है बज़्मे-ऐश
यहां जख़्मे-दिल फिर हरा हो गया

ये डाले तिरे हुस्न में तफ़रिक़े
मिरा दिल भी मुझ से जुदा हो गया

कोई दाद-ख़ाहों की सुनता नहीं
वो बुत रोज़े-महशर ख़ुदा हो गया

मिरे दर्दे-दिल की दवा हो गई
मिरा दर्दे-दिल ला-दवा हो गया

ज़माने से रस्मे-वफ़ा उठ गई
ज़माना बड़ा बे-वफ़ा हो गया

'वफ़ा' जान देते तो हो तुम मगर
अगर वा'दा उनका वफ़ा हो गया।