भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ा बे-दाद-गर वो मह-जबीं है / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़ा बे-दाद-गर वो मह-जबीं है
मगर इतना नहीं जितना हसीं है

तबस्सुम-पाशियाँ अग़्यार पर हैं
हमारे वास्ते चीन-ए-जबीं है

जहाँ में अम्न हो क्यूँ-कर कि हर सू
बपा जंग-ए-बक़ा-ए-बेहतरीं है

नहीं का लफ़्ज़ है कुछ तल्ख़ वर्ना
तुम्हारी हाँ का मतलब भी नहीं है

तिरे मेहमाँ वो आएँ ऐ 'वफ़ा' क्या
अरे तेरा ठिकाना भी कहीं है।