भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ी बनूं कुछ मैं भी / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तितली नहीं बैठ सकती क्या
एक जगह तू टिककर?
उड़ ना सकती क्या तू तितली
एक जगह से छिक कर?

मैं भी तो ऐसी ही हूं ना
घूम घूम कर खाती।
मां कहती है एक जगह में
अरे नहीं टिक पाती।

पर क्या तितली कभी गले में
खाना नहीं अटकता?
कभी इधर फिर कभी उधर जा
मन क्या नहीं भटकता?

मेरे तो मैं सच कहती हूं
खाना गले अटकता।
चंचल हो जब पुस्तक पढ़ती
मन भी खूब भटकता।

अब तो सोचूं टीचर जी की
बात मान लूं मैं भी।
टिक कर बैठूं, टिक कर पढ़ लूं
बड़ी बनूं कुछ मैं भी।