भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ों के बीच / निशान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़ी-बड़ी सड़कें
बड़ी-बड़ी कारें
बड़ी-बड़ी कम्पनियाँ
बड़े-बड़े पेट्रोल पम्प
बड़े-बड़े होटल
बड़े-बड़े शहर
बड़ी-बड़ी दुकानें
बड़े-बड़े संस्थान
बड़े-बड़े कॉम्पलेक्स
बड़े-बड़े राजनेता
बड़े-बड़े पण्डाल
बड़े-बड़े गुरुजी
हो रहा है बड़़ा गांव भी
छोटा रह गया बस
इन्सान।