भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बढ़ रही बग़ावत तो देखिए आप / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बढ़ रही बग़ावत तो देखिए आप।
हो रही क़यामत तो देखिए आप।

भोर तक जलने की ठान बैठा है,
दिए की शहादत तो देखिए आप।

हवेलियों के खिलाफ़ खड़े हुए हैं,
तिनकों की ताक़त तो देखिए आप।

अभेद्य दुर्ग ढहाने चल पड़ी है,
हवा की हिमाक़त तो देखिए आप।

अब फौलाद भी पिघल उठेगा यहां,
आग की अदावत तो देखिए आप।