भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बता भूईयाँ के भगवान कोन / प्रमोद सोनवानी 'पुष्प'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बता भूईयाँ के भगवान कोन।
धरती के मितान कोन।

जेहर नई करे गुमान,
दो या ना दो सनमान।
घाम,पानी अऊ जाड़ म,
करत रहिथे जेहर काम।

ओहर भूईयाँ के भगवान ऐ।
धरती के मितान ऐ।

ऐ खेत -खलियान बर,
मजदूर किसान हर।
लड़ गे देख तो जिनगी भर,
भूईयाँ के सनमान बर।

ओहर भूईयाँ के भगवान ऐ।
धरती के किसान ऐ।