भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

बदलती संज्ञा के देखते / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोज ही
जल-जला जाती हैं लडकियां
बाहर की दुनिया
रहती है जस-की-तस
क्रिया नही
संज्ञा भर बदलती है बस

जलजला आता नहीं कहीं कोई
जल-जला आती है चुपचाप
जल-जला आना है जिसे एक-न-एक दिन
यहां नहीं तो वहां सही
वहां नहीं तो कहीं और सही

दुनिया को इसी तरह चलते रहना है
लडकियों को इसी तरह जलते रहना है
एक ही क्रिया के साथ
बदलती संज्ञा को देखते रहना है !