भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बदल कर रुख़ हवा उस छोर से आए तो अच्छा है/ सतपाल 'ख़याल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
बदल कर रुख़ हवा उस छोर से आए तो अच्छा है
मेरी कश्ती भी साहिल तक पहुँच जाए तो अच्छा है

मसाइल और भी मौजूद हैं इसके सिवा लेकिन
महब्बत का भी थोड़ा ज़िक्र हो जाए तो अच्छा है

अदालत भी उसी की है, वक़ालत भी उसी की है
वो पेचीदा दलीलों में न उलझाए तो अच्छा है

जहाँ फूलों की बारिश हो, जहाँ ख़ुशबू के दरिया हों
कोई ऐसे जहाँ की राह बतलाए तो अच्छा है

कभी ऐसा नहीं होगा मुझे मालूम है फिर भी
मेरे हाथों में तेरा हाथ आ जाए तो अच्छा है