भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

बदळाव / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुण भायला !
बै दिन गया
जद थारै आवण री खबर सुणतां ई
म्हारो मन करण लागतो थड़ी
अबै तूं आवै जणा
मुळक’र मिलूं तो सरी
पण मन में सोचतो रैवूं-
  आछी अळबत गळै पड़ी ।