भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बनाता हूँ बेजान तस्वीरें / सरदार सोभा सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 

बनाता हूँ बेजान तस्वीरें

यह तन आत्मा का मंदिर
सब कुछ इसके भीतर
सिख ,गुरु, देवता, भगवान
कवि ,लेखक, चित्रकार
अरे कोई रूह
कभी तो आए बाहर

मृत हुई तूलिका
मुर्दा रंग
शीत बुढ़ापा
जीने की उमंग

मैं बनाता हूँ चित्र
जिन्हें जीवित आत्माएँ
देती हैं प्राण
मेरी तमन्ना?
कोई न जाने.