भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बनारस में पिंडदान / लीना मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घाट जब मंत्रों की भीनी मदिरा पीकर बेहोश हो जाते हैं
तब भी जागती रहती हैं घाट की सीढ़ियाँ
गंगा ख़ामोश नावों में भर-भर के लाती हैं पुरखे
बनारस की सोंधी सड़कों से गिरते पड़ते आते हैं पगलाए हुए पुत्र,

पिंड के आटे में बेटे चुपचाप गूँथ देते हैं अपना अफ़सोस
अँजुरी भर उदासी जल में घोल नहला देते हैं पिता को
रोली-मोली से सज्जित कुपित पिता
नही कह पाते वो शिकायतें
जो इतनी सरल थीं की उन्हें बेटों के अलावा कोई भी समझ सकता था
और इस नासमझी पर बेटे को शहर से निकाल दिया जाना चाहिए था
किन्तु
तब भी जानते थे पिता बेटे के निर्वासन से शहर वीरान हो जाएँगे

भूखे पिता यात्रा पर निकलने से पहले खा लेते हैं
जौ और काले तिल बेटे के हाथ से
चूम कर विवश बेटे का हाथ एक बार फिर उतर जाते हैं पिता घाट की सीढ़ियाँ

घाट की सीढ़ियाँ बेटियों सी पढ़ लेती हैं अनकहा इस बार भी
सघन हो उठती है रहस्यों से हवाएँ
और बनारस अबूझ पहेली की तरह डटा रहता है
डूबता है बहता नही....
शांति में
घंटियों में
मंत्रों में
शोर में
गंगा में....