भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बन्दी / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पन्ना उलटकर गाना देखना,
खोजते फिरना गीत
बिना जाने तैरते जाना
लता-पत्तों से घिरे सरोवर में

सरोवर
भूलवश कह गया,
असल में हर पृष्ठ पर निहित है
एक कवि का
अतल समुद्र गामी मन

समझो
या न समझो
एक सान्ध्य घर में
गीत-वितान के हाथों
बन्दी बने हुए हैं दो प्राणी

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी