भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बबूल का फूल / लक्ष्मीकान्त मुकुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चट्टानों पर तैरती
सुबह की पिली धूप
अब नहीं दिखती मेरे आस – पास
झड रहे हैं शिरीषं के पत्ते
जैसे सिमटता जा रहा हो
मेरे उपर का आसमान

गौरैये की चोंच
कूंचा गई है इस बार भी
हवा में उछलते धूलकडो से
और पत्त्थरों की वर्षा से
कहर उठा है सारा गाँव

काकी भूल जाती
घर की बटुली
पिता खो आते
बाज़ार में
पूर्वजों की रखी हुई शान

अब क्या किया जाए
कहीं दिखता नहीं हमें
घर के पिछवाड़े में उगा
बबूल का एक भी फूल