भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बम / हैरॉल्ड पिंटर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

और कहने के लिए शब्द बाक़ी नहीं है
हमने जो कुछ छोड़ा है सब बम हैं
जो हमारे सरो पर फट जाते हैं
हमने जो कुछ छोड़ा है सब बम हैं
जो हमारे ख़ून की आखिरी बूँद तक सोख लेते हैं
जो कुछ छोड़ा है सब बम हैं
जो मृतको की खोपड़ियाँ चमकाया करते हैं

मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : व्योमेश शुक्ल