भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरगद की छांव / अर्चना कुमारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक दिन नष्ट होने का तय है
तय है कि बीत जाना है

सर पर घुंघराले लटों की तरह
उलझते रहेंगे अहं के तंतु

थामी गयी हथेलियों में
चुभते रहेंगे नाखून

गले मिलते ही
उभर आएंगे दंतक्षत

आंखों में चुभेंगी
उठी हुई ऊंगलियां

पीठ पर भंवर होगा
मन में बवंडर

नहीं झुकने का अर्थ
ताड़ का वृक्ष नहीं होता

झुकने की पात्रता
धनुष जानता है

भीड़ के कोलाहल में
हृदय मनुज पहचानता है

प्रेम करना सीखना होगा
दिलों पर राज करने से पहले

बरगदों की छांव में
पलते हैं कितने संसार...।