भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरसों से हूँ मैं ज़मज़मां परज़ादे-महब्बत / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 बरसों से हूँ मैं ज़मज़मां परज़ादे-महब्बत
आई न जवाबन कभी आवाज़े-महब्बत

इक दर्द महब्बत है मिरी हर रगो-पै में
हर सांस है अब मेरा इक आवाज़े-महब्बत

हर चंद की हर बज़्म में ठुकराई गयी है
आवाज़े-महब्बत है आवाज़े-महब्बत

मामूर हैं आवाज़े-महब्बत से फज़ाएं
मस्तूर है गो साहिब आवाज़े-महब्बत

आ जाये ज़रा सीनाए-आफाक में गर्मी
हो जाये ज़रा शोला ज़न आवाज़े-महब्बत

जिस शख्स के सीने में है दिल की जगह पत्थर
समझेगा वो क्या मानी-ए-आवाज़े-महब्बत

इस दौरे-तगो-दौ में 'वफ़ा' कौन सुनेगा
कितनी ही दिल-आवेज़ हो आवाज़े-महब्बत