भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बर्फ़ की गेंद (गिरती हुई) / शेल सिल्वरस्टीन / नीता पोरवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने ख़ुद को
बर्फ़ की एक गेंद बना लिया
बहुत सुन्दर
जितनी कि वह हो सकती थी

यह सोचकर
कि मैं उसे लाड़-दुलार से रखूँगा

उसे मैने अपने साथ सुलाया

मैने उसके लिए
कुछ पाजामा बनवाए
और सिर के लिए एक तकिया भी

फिर भी पिछली रात वह चली गई
लेकिन उससे पहले
वह मेरा बिस्तर सीला कर गई

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : नीता पोरवाल